चार धाम द्वार पर लग रहा कई किलोमीटर लम्बा जाम

चार धाम द्वार पर लग रहा कई किलोमीटर लम्बा जाम

कुछ किलोमीटर की दूरी कई घण्टों में हो रही है पूरी, जिससे समय पर अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे यात्री व स्थानीय।

जब सरकार निश्फिक्र हो जाए तो उसका नुकसान सामान्य जनता को उठाना पड़ता है और तीर्थयात्रा का मुख्य केंद्र ऋषिकेश और मुनिकीरेती में यह साक्षात उदाहरण देखने को मिल रहा है। यहां यात्रियों के ठौर ठिये की व्यवस्था तो दूर मात्र उनके यात्रा वाहनों तक को समय पर नहीं भिजवा पा रहे हैं। जिससे इस भीषण गर्मी में यहां आने वालों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
इस अव्यवस्था में पुलिस परिवहन और प्रशाशन की आपसी तालमेल की काफी कमियां देखने को मिल रही है। वहीं दो अलग अलग जिलों क्रमशः देहरादून और टिहरी जिले के बीच यात्रा को सुचारु रूप से चलाने के लिए कोई ठोस रणनीति तक पटल पर दिखाई नहीं दे रही है।

देहरादून जनपद के ऋषिकेश से कितने वाहनों को नटराज चोक से भेजकर टिहरी जिले के मुनिकीरेती के भद्रकाली मार्ग पर भेजना है और कितनों को मुनिकीरेती बाजार से फिर ऊपर की तरफ मोड़ना है इसका ट्रैफिक रुट तक समझ से परे है।
लब्बोलुआब तो यही है कि सारी व्यवस्थाएं भगवान और पत्रकारों की तरफ से उठने वाली बातों के भरोसे ही चल रही है वरना सरकार और प्रशासन तो इस मामले में सोए हुए ही दिखाई दे रहे हैं।

%d bloggers like this: