पहले दवाएं बनती थी, अब अस्पताल बन रहा है

पहले दवाएं बनती थी, अब अस्पताल बन रहा है

मेयर ने किया डीआरडीओ द्वारा बनाए जा रहे आईडीपीएल में 500 बैड के अस्पताल का निरीक्षण और निर्माण में पूर्ण सहयोग करने की कही बात।
उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना संक्रमण और उसकी रोकथाम के लिए केन्द्र सरकार के आदेश पर ऋषिकेश के आईडीपीएल स्थित हैलीपेड के प्रांगण में आकास्मिक अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस 500 बैड के कोविड अस्पताल के निर्माण का कार्य युद्व स्तर पर शुरू हो गया है।
डीआरडीओ को पच्चीस दिन के भीतर हास्पिटल के निर्माण का जिम्मा सौंपा गया है। जिसमें ऋषिकेश नगर निगम की मेयर अनीता ममगाईं ने हास्पिटल निर्माण कार्य का निरीक्षण किया।
इस दौरान उन्होंने अस्पताल के निर्माण का जिम्मा संभाल रहे डीआरडीओ के सूबेदार मेजर सुभाष को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। उनके द्वारा बिजली, पानी की आ रही दिक्कतों पर तत्काल सम्बंधित अधिकारियों को मेयर ने उन्हें मौके पर तलब किया। वहीं निर्माणाधीन स्थल पर सैनेटाइजेशन भी शुरू करा दिया गया।
इस संबंध में मेयर का कहना है कि कोरोना संक्रमित रोगियों की जिंदगियों को बचाने में इससे मदद मिलेगी। यहां 120 आईसीयू बेड के अलावा आक्सीजन प्लांट लगाए जाने का लाभ भी महामारी से जूझ रहे रोगियों को मिलेगा। इसके अलावा मोबाइल टायलेट की जरूरत पर तत्काल कार्य शुरू करने का आदेश दिया। अस्पताल के लिए दिन रात काम करने के चलते उन्होंने तत्काल विद्युत विभाग से स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था करने के आदेश भी दिए।
मौके पर जेई उपेंद्र गोयल, जेई विद्युत विभाग श्यामसुंदर, हास्पिटल डिजाइनर जितेंद्र,आईडीपीएल चौकी इंचार्ज चिंतामणि मेंठानी, पाार्षद गुरविंदर सिंह, सुभाष बाल्मीकि, सफाई निरीक्षक अभिषेक मल्होत्रा आदि शामिल थे।

%d bloggers like this: